Exclusive: गठबंधन न होने के बावजूद कांग्रेस यूपी में मुलायम परिवार के खिलाफ नहीं उतारेगी उम्मीदवार!

खास बातें

  • ‘मुलायम के सामने कांग्रेस उम्मीदवार नहीं’
  • डिंपल के ख़िलाफ़ भी उम्मीदवार नहीं: सूत्र
  • अखिलेश लड़े तो वहां भी कांग्रेस नहीं: सूत्र
नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कांग्रेस (Congress) ने सपा-बसपा के साथ गठबंधन (SP-BSP Alliance) नहीं होने के बावजूद मुलायम परिवार के खिलाफ कोई उम्मीदवार नहीं उतारने का फैसला किया है. मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के मैनपुरी से लड़ने की घोषणा समाजवादी पार्टी से पहलेे ही कर चुकी है घोषणा व
कन्नौज से डिंपल यादव (Dimple Yadav) के नाम का भी औपचारिक ऐलान किया जा चुका है. अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की अपने पिता मुलायम सिंह की मौजूदा सीट आजमगढ़ से लड़ने की चर्चा है. समाजवादी पार्टी और बसपा गठबंधन पहले ही राहुल गांधी की सीट अमेठी और सोनिया गांधी की सीट रायबरेली से उम्मीदवार न उतारने की घोषणा कर चुका है. राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आपसी सहमती से ये फैसला लिया है.यूपी में नए सिरे से गठबंधन क्या सपा बसपा गठबंधन ने कांग्रेस को दिया इतनी सीटों का ऑफर

कांग्रेस गठबंधन न होने के बावजूद भी अखिलेश यादव से संबंध नहीं बिगाड़ना चाहती है पर, कांग्रेस मुलायम सिंह यादव के परिवार के दूसरे सदस्यों के खिलाफ अपने उम्मीदवार खड़े करेगी. कांग्रेस धर्मेंद्र यादव के खिलाफ बदायूं से सलीम शेरवानी को पहले ही टिकट दे चुकी है.

राहुल गांधी का क्या ब्रह्मास्त्र शास्त्र साबित होगी प्रियंका गांधी निशाने पर सिर्फ बीजेपी या सपा बसपा गठबंधन भी

सपा के महासचिव रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव के खिलाफ भी कांग्रेस फ़िरोजाबाद से उम्मीदवार उतारेगी. कांग्रेस की यूपी के उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट जल्द जारी होने की संभावना है. खबरें ये भी हैं कि यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर मुरादाबाद से चुनावी मैदान में उतर सकते हैं. उधर, उत्तर प्रदेश में कांग्रेस और सपा-बसपा के गठबंधन पर मायावती ने मंगलवार को विराम लगा दिया है.बता दें कि हाल ही में उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव (LoksabhaElection2019) से पहले महागठबंधन में कांग्रेस (Congress) की स्थिति को लेकर अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने बड़ा बयान दिया था. लखनऊ में पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा था कि कांग्रेस पहले भी हमारे साथ थी और अभी भी हमारे साथ है. ऐसे में कांग्रेस का हमसे अलग होने का कोई सवाल ही नहीं उठता है. उन्होंने पत्रकारों के सवाल पर कहा कि आप यह बार-बार क्यों पूछते हैं कि कांग्रेस साथ आएगी या नहीं? मैं आपसे एक बार फिर स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि कांग्रेस हमारे साथ है, वह गठबंधन का हिस्सा है. इस बार के लोकसभा के चुनाव में कांग्रेस गठबंधन में रहते हुए दो सीटों पर लड़ेगी.

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

अरुणाचल प्रदेश: आम चुनाव से ठीक पहले BJP को बड़ा झटका, मंत्री समेत 14 विधायक पार्टी छोड़ NPP में शामिल

🔊 Listen to this अरुणाचल प्रदेश: आम चुनाव से ठीक पहले BJP को बड़ा झटका, …